तफूलत मोर्चा नहीं देखा करती !!...:)



दोस्तों,
ये
Video तब की है जब मैं Salzburg से Munich लौट रहा था ....train में एक बड़ी प्यारी सी बच्ची मिली ..बिल्कुल मेरी बहन प्रकृति के जैसी ..अपने पापा के साथ घर लौट रही थी ....अब बच्चों का तो आप जानते ही हो ....she smiled...I smiled...and खुराफात shuru....अब मैं जो भी हरकत करूँ , वो copy करने लगे ....बड़ा मज़ा रहा था उसकी हरकतें देख कर के ....I asked her Father how old was she, तो पता चला की ये नन्हा शैतान बस 5 बरस का है ....मेरी बहन प्रकृति भी तो 5 साल की ही है ना...

सिर्फ़ मेरा ही नहीं , उस बच्ची ने train में सभी का मन मोह लीया था ..कितने प्यार से खिलखिला के हंस रही थी...आपलोग video में देख सकते हैं ..she was just so fast in responding to your moves की ख़ुद को भी हैरत होने लगे ....हे हे हे ....मेरे में और भी दोस्त थे ....Robert, Ana, Gosia, Lucas, Beata, Andreas सारे ....सब को खूब मज़ा आया ....Munich Central पहुन्च्के बड़ा मन हुआ की बच्ची के लिए एक 5 star ले लूँ ....but फ़िर ये आभास हुआ की मैं Ranchi स्टेशन पर नहीं Munich स्टेशन पे खड़ा हूँ ...जहाँ लोगों के पास इतना प्यार करने को तो टाइम होता है और ना ही यहाँ 5 star मिल्ती है ....फिर भी जब तक वापस लौटा एक fritz chocolate लेके ...she was gone with her father...

चलो कोई नहीं ....दूसरी बार कभी मिलेगी तो पहचान पाना तो मुश्किल ही है ..मैंने तो नाम भी नहीं पुच्चा...उसे इंग्लिश जो नहीं आती थी...1 घंटा कराटे खेला अपनी नन्ही दोस्त के साथ....मज़ा आ गया ..और एक बात पक्की हो गई ...बच्चे किसी भी देश के हों ...प्यारे भी उतने ही होते हैं ...और मासूम भी उतने ही ....

सच ही कहा है किसी ने ....ईश्वर का रूप है बच्चों में !!...Einverstendein...Ganz Genau!!

चलो छोटी , किस्मत रही तो फ़िर मिलेंगे!

तुम्हारे उज्जवल भविश्य के लिए कामना करता हूँ...

तुम्हारा भइया,
पीयूष राज 'सख्त जानी'

Comments

  1. angrezi seekh lo pehle.. tum to innocence se baat nhi kar sakte na.. doesnt HAS.. ehwww!!

    ReplyDelete
  2. seems u trust urdu more than english...(u changed the title after that comment...isnt it?)...nvr mind

    yes..this girl s really an angel...journey gets a lil fun in company of such cute kids...it is so easy for them to grab everyone's attention...

    but sometimes it gets a lil tiresome if these kids r stubborn mischievous devils...i mean i really cant hand over my cell to such kids just to let it get wet with their saliva..he he...but if they cry for it then u r helpless...unpe gussa bhi nai ata par pata bhi nai chalta kya kiya jaye...:)

    ReplyDelete
  3. waise mujhe bhi bahut laar tapkaane waale bacche pasand nahiin hain.....:P

    ye jo tumhaare se upar comment likha hai amrit, hamaare muhalle ki chachi hi hain!! unki aadat hai jahaan tahaan taank jhaank karke comment baaji karna.....isiliyekoi baat nahii!!

    unke liye ek message hai: Chachi, kabar mein paaon latkaae baithi ho, ab to apni harkaton se baat aao amma!!
    chatni chaachi!!...:)

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

"Takers eat well....Givers sleep well."

Main Chaand se Baatein karta hoon